More

    24 दिसंबर का कोहली से क्या है अनोखा नाता

    -

    खुशी बाली, नई दिल्ली

    भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली हमेशा से सभी के चहेते रहे हैं। हमारे देश का नाम रोशन करने में वह कभी पीछे नहीं हटे। पर क्या आप ही जानते हैं कि वह कब और कैसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेलने पहुँचे?

    कोहली का आगमन

    करीब 11 साल पहले, 24 दिसंबर 2009 को भारत टीम के कप्तान विराट कोहली ने पहली बार अंतरराष्ट्रीय शतक के साथ अपने आगमन की घोषणा की थी। उस समय श्रीलंका की मजबूत इकाई के खिलाफ पांच मैचों की एकदिवसीय श्रृंखला में भारत 2-1 से आगे था। श्रीलंका की टीम ने पहले बल्लेबाज़ी करी और 315 रन बनाए। उस दिन भारत के दो महान बल्लेबाज – सहवाग और सचिन तेंदुलकर , 4 ओवर के अंदर अंदर विकेट खो बैठे थे। भारत उस समय बड़ी मुसीबत में पड़ चुका था।

    गौतम गंभीर और विराट कोहली ने खेल को आगे बढ़ाने की ठानी। गौरतलब इन दोनों की जोड़ी ने सिर्फ 92 गेंदों में तीसरे विकेट के लिए एक अच्छा शतक लगा लिया था। विराट कोहली ने मात्र 52 गेंदों में अपना अर्धशतक पूरा कर लिया था।
    गौतम गंभीर ने भी 150 से ज्यादा रन बनाए थे। कोहली ने इतना उत्तम गेम खेल कर यह साबित कर दिया था कि मुसीबत के समय वह भारतीय टीम को पूरा पूरा सहारा दे सकते हैं।

    2009 के बाद भी कर चुके ऐसा ही कमाल

    2009 में कोलकाता में अपना जादू बिखेरने के बाद विराट कोहली ने 2011 में भी खुद को साबित किया था। 2011 में जब मुंबई में विश्व कप फाइनल चल रहा था, भारत सहवाग और तेंदुलकर का पीछा करते हुए जल्दी हार गए और फिर वहीं बल्लेबाज – गंभीर और कोहली – एक साथ न केवल पारी को पुनर्जीवित करना, बल्कि मैच-बदलते और परिभाषित स्टैंड में भी भागीदारी करना, जिसने भारत को जीत के लिए निर्धारित किया।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Latest news

    Must Read

    You might also likeRELATED
    Recommended to you