More

    *12 January:स्वामी विवेकानंद की जयंती पर विशष

    -

    आशिशा सिंह राजपूत

    महान शख्सियत, मशहूर आध्यात्मिक नेता, महान वक्ता, देशभक्त, एक महान इंसान, अथाह ज्ञान के भंडार और सरल भाव के स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी, 1863 में हुआ था। उन्होंने गरीबों और गरीबों की दासता में, अपने देश के लिए अपने सभी को समर्पित करने, समाज की भलाई के लिए अथक कार्य किए। साथ ही साथ स्वामी विवेकानंद ने वैश्विक स्तर पर हिंदू और हिंदुत्व को श्रद्धेय धर्म के रूप में स्थापित किया। आइए जानते हैं स्वामी विवेकानंद के महान व्यक्तित्व के बारे में विशेष बातें

    *स्वामी विवेकानंद पर पड़ा मां का प्रभाव*

    विवेकानंद विश्वनाथ दत्त का जन्म कोलकाता की एक कुशल परिवार में हुआ। उनके पिता का नाम विश्वनाथ दत्त और माता का नाम भुवनेश्वरी देवी था। विवेकानंद 8 भाई बहनों में से एक थे। स्वामी विवेकानंद के पिता पेशे से एक सफल वकील थे। वही उनकी मां एक मजबूत विश्वास वाली और ईश्वर की भक्ति में लीन रहती थी। विवेकानंद की मां का ईश्वरीय मन का एक बड़ा प्रभाव विवेकानंद पर भी पड़ा।

    *स्वामी विवेकानंद की शिक्षा*

    स्वामी विवेकानंद युवावस्था में ही काफी बुद्धिजीवी साबित हुए। उनकी उत्कृष्ट बुद्धि उनके व्यक्ति की लड़कपन में ही पहचान बन गई। वह हमेशा से अपनी शिक्षा दीक्षा में बेहतर प्रदर्शन करते थे। सर्वप्रथम विवेकानंद ने मेट्रोपॉलिटन संस्थान में, और फिर कलकत्ता के प्रेसिडेंसी कॉलेज में अपनी विद्वता का परचम लहराया। और कॉलेज की सनातन की उपाधि प्राप्त करते करते स्वामी विवेकानन्द ने विभिन्न विषयों का एक विशाल ज्ञान प्राप्त कर लिया था। खेल, जिमनास्टिक, कुश्ती और शरीर निर्माण में विवेकानंद हमेशा सक्रिय रहे। स्वामी विवेकानंद के व्यक्तित्व की खास बात यह थी कि वह किसी डिग्री या उपाधि के लिए नहीं बल्कि शौक वस पढ़ाई करते थे। जिसका प्रमाण उनका आध्यात्मिक पुस्तकों के अध्ययन में साफ देखा जा सकता है। स्वामी विवेकानंद ने हिंदु धर्मग्रंथों को भगवत गीता और उपनिषद, जबकि दूसरी ओर उन्होंने डेविड ह्यूम, जोहान गॉटलीब फिच और हर्बर्ट स्पेंसर के पश्चिमी दर्शन, इतिहास और आध्यात्मिकता का सूर्य के प्रकाश में अध्ययन किया ।

    *भगवान के अस्तित्व पर पूछा विवेकानंद ने सवाल*

    आध्यात्मिक ग्रंथों में अपनी बौद्धिकता अर्जित करने वाले स्वामी विवेकानंद अध्यात्म के सभी धार्मिक नेताओं से से मिलकर‌ ईश्वर के अस्तित्व पर सवाल करते हुए लोगों से यह जवाब मांगा कि क्या उन्होंने कभी ईश्वर को देखा है? पर लगातार कईयों से यह प्रश्न पूछे जाने पर भी उन्हें कोई संतोषजनक उत्तर नहीं प्राप्त हुआ। और अंततः उनके इस प्रश्न का उत्तर दक्षिणावर्त काली मंदिर के यौगिकों में उनके निवास पर श्री रामकृष्ण को एक ही प्रश्न आगे बढ़ाया। श्री रामकृष्ण ने उत्तर दिया – “हां, मेरे पास है। मैं भगवान को स्पष्ट रूप से देखता हूं, जैसा कि मैं आपको देखता हूं, केवल गहन अर्थों में।” रामकृष्ण की सादगी के द्वारा शुरू में विवेकानंद को, रामकृष्ण के उत्तर से आश्चर्य चकित हुआ।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Latest news

    Must Read

    You might also likeRELATED
    Recommended to you