More

    अहमदाबाद के पार्क के मिस्ट्री मोनोलिथ की कहानी

    -

    खुशी बाली, नई दिल्ली

    साल 2020 हमारे लिए भिन्न प्रकार के झटके के सामने लाया था। बीते साल दिल्ली में दंगे, चीन और भारत में अनबन, कोरोना, अम्फान, निसारगा जैसे बड़े तूफान आदि चीजें चलती ही रहीं। 2020 जाते – जाते भी कुछ अजीबो – गरीब छोड़ कर गया है। कुछ देशों में तो मोनोलिथ पहले ही दिखाई दे चुका था परंतु अब भारत में दिखाई पड़ा है।

    कैसा है यह मोनोलिथ?

    यह अहमदाबाद के थलतेज इलाके में ” सिम्फनी पार्क ” नामक जगह में पाया गया है। मोनोलिथ के स्ट्रक्चर की बात करे तो इसकी ऊँचाई 6 फीट से भी ज़्यादा है तथा यह स्टील से बना है। इस स्ट्रक्चर के ऊपर कुछ नंबर भी लिखे हुए है और सिम्बल भी बना हुआ है लेकिन इसके जमीन के अंदर गड़ने के निशान नहीं दिखाई देते और इसके यहाँ स्थित होने के राज से भी कोई वाकिफ नहीं है । शायद इसलिए इसे मिस्ट्री मोनोलिय भी कहा गया है। दूसरी दिल्चस्प बात यह हैं कि यह मोनोलिथि भारत में पहली बार दिखाई दिया है। भारत के अलावा मोनोलिय अन्य 30 देशो में ही दिखाई दिए हैं। इस स्ट्रक्चर को आने जाने वाले सभी लोग बड़ी उत्सुकता से देखते हैं और तस्वीरें भी खिचवाते है। लोगो ने तो इसे मिस्ट्री स्टोन का भी नाम दे रखा है।

    लोगों का क्या कहना है?

    मोनोलिथ के बारे में लोगों की अलग-अलग राय है। यह स्ट्रक्चर जिस पार्क में देखा गया है वहां के माली ने बताया कि उन्हें इसके बारे में कुछ भी नहीं पता। उस पार्क के मालिक का नाम आसाराम है। वह एक साल से वहां काम कर रहे हैं। माली आसाराम का कहना है कि शाम के समय, उनके घर जाने के वक्त तक वहां ऐसा कुछ भी नहीं था। परन्तु अगले दिन जब वह ड्यूटी पर आए तो इस मोनोलिथ को देखा। वह है खुद हैरान है कि यह कहां से आ गया।
    ऐसा ही कुछ हाल गार्डन मैनेजर का भी है। यह मोनोलिथ कहां से आया इसकी जानकारी न तो कॉर्पोरेशन के अधिकारियों को है, न ही सिम्फनी कंपनी के लोगों को इसके बारे में कुछ पता है। कुछ लोगों का तो यह भी मानना है कि यह एलियन का काम है।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Advertisement

    Latest news

    Must Read

    Advertisement

    You might also likeRELATED
    Recommended to you