More

    इस तारीख़ को होगा पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का उद्घाटन

    -

    पूर्वांचल के दौरे पर आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोगों को पूर्वांचल एक्सप्रेसवे को अप्रैल तक पूर्ण होने की सौगात दी। उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी जी ने सोमवार यानी कि आज के दिन लखनऊ से आजमगढ़ होते हुए गाजीपुर तक बन रहे पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का निरीक्षण किया। जानें मुख्यमंत्री योगी ने जनप्रतिनिधियों व स्थानीय लोगों से संवाद और जन संबोधन में क्या कुछ कहा:-

     

    *अप्रैल में प्रधानमंत्री के हाथों होगा उद्घाटन*

     

    मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूर्वांचल के दौरे के बाद जिन संबोधन में कहा कि मार्च तक एक्सप्रेस वे का काम पूर्ण हो जाएगा। और अप्रैल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने अपने भाषण में पूर्ण रूप से विकास का जिक्र किया। और आजमगढ़ को उत्तर प्रदेश के विकास की शाख बताते हुए योगी जी ने कहा कि पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का शिलान्यास प्रधानमंत्री ने आजमगढ़ में किया था। जिसे अब समर्पित करने का समय आ गया है। अप्रैल माह में इस एक्सप्रेस-वे पर वाहनों के साथ-साथ विकास की भी रफ्तार बढ़ेगी। जिससे रोजगार को भी अवसर मिलेंगे

     

    *मुख्यमंत्री का ड्रीम प्रोजेक्ट*

     

    पूर्वांचल एक्सप्रेस वे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का ड्रीम प्रोजेक्ट है। जिसमें करीब 22,494.66 करोड़ रुपये की लागत लगी है। लखनऊ से आजमगढ़ होते हुए गाजीपुर तक सिक्स लेन के पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का निर्माण योगी आदित्यनाथ ने मुख्यमंत्री पद का कार्य-भार संभालने के बाद ही ले लिया था। इस एक्सप्रेसवे को भविष्य में आठ लेन करने की मंशा से इसकी लम्बाई 340.824 किमी रखी गई है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के इस ड्रीम प्रोजेक्ट के साथ-साथ प्रदेश के लोगों में भी इस परियोजना को लेकर खासा उत्साह है। बता दें कि इस प्रोजेक्ट से लखनऊ, बाराबंकी, अमेठी, अयोध्या, सुल्तानपुर, अम्बेडकरनगर, आजमगढ़, मऊ और गाजीपुर के विकास की तस्वीर बदल जाएगी।

     

    *पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के लाभ*

     

    जाहिर है पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे विकास के नए पैमाने रचेगा।‌ लेकिन उसके साथ-साथ पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के बनने से प्रदेश को कई सारे लाभ भी होंगे जिसमें कई सारे नए रास्ते जुड़ने से लोगों के समय की बचत होगी। रास्तों की दूरियां कम होने से ईंधन की खपत कम होगी जिससे प्रदूषण पर भी नियंत्रण किया जा सकेगा। जिसमें सर्वप्रथम पूर्वी क्षेत्र प्रदेश की राजधानी एवं आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे व यमुना एक्सप्रेसवे के माध्यम से देश की राजधानी से त्वरित एवं सुगम यातायात के कॉरिडोर से जुड़ जाएगा। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के प्रोजेक्ट से विकास के साथ कृषि, वाणिज्य, पर्यटन तथा उद्योगों की आय के भी नए रास्ते खुलेंगे। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के निकट इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट, शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान, मेडिकल संस्थान आदि की स्थापना के लिए भी नए अवसर सामने आएंगे।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Latest news

    Must Read

    You might also likeRELATED
    Recommended to you