More

    जाने एक जनवरी से कैसे बदलेगा टोल का रोल

    -

    खुशी बाली, नई दिल्ली

    फास्टैग क्या है?

    फास्टैग (FASTag) के बारे में काफी लोग नहीं जानते होंगे। यह एक इलेक्ट्रॉनिक तकनीक है जिससे हाईवे पर वाहनों से शुल्क वसूली करी जाती है। इसमें रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (RFID) होता है। रेडियो फ्रिक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन एक बारकोड भी होता है जो आपके वाहन के सभी पंजीकरण विवरणों से जुड़ा होता है। यह जारी करने की तारीख से पांच साल की अवधि के लिए वैध माना जाता है।
    कुछ दिन पहले ही सरकार ने सब को सूचित किया था कि जनवरी 1, 2021 से पहले पहले फास्टैग सभी गाड़ियों पर लग जाना चाहिए। अभी इसी से जुड़ी एक खबर सामने आई है।

    क्या है वह खबर?

    फास्टैग से जुड़ी आम जनता के लिए एक राहत की खबर सामने आई है। सरकार ने वाहनों पर फास्टैग लगवाने की समय सीमा बढ़ा दी है। पहले इसकी आखिरी तारीख जनवरी 1, 2021 थी परंतु अभी से आगे बढ़ाकर फरवरी 15, 2021 कर दिया गया है।

    फास्टैग के क्या फायदे हैं?

    • अब टोल के भुगतान में आसानी होगी।
    • ऑनलाइन रिचार्ज FASTag को क्रेडिट कार्ड / डेबिट कार्ड / NEFT / RTGS या नेट बैंकिंग के माध्यम से ऑनलाइन रिचार्ज किया जा सकता है।
    • कम वायु प्रदूषण और कागज का कम उपयोग जैसे पर्यावरणीय लाभ फायदेमंद है।
    • टोल ट्रांजेक्शन, कम बैलेंस आदि के लिए FASTag होल्डर को एसएमएस अलर्ट भेजा जाता है।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Advertisement

    Latest news

    Must Read

    Advertisement

    You might also likeRELATED
    Recommended to you