More

    पेट्रोल-डीजल पर भारतीय देते हैं सबसे ज्यादा कर : शशि थरूर

    -

    आशिषा सिंह राजपूत, नई दिल्ली

    कांग्रेस नेता शशि थरूर ने एक बार फिर अपने ट्वीट के जरिए सरकार पर निशाना साधा और अपने ट्वीट में एक अहम बात करते हुए बताया कि भारत में पेट्रोल और डीजल का सबसे अधिक कर (Tax) है। पेट्रोल व डीजल (फ्यूल) पर कर भारतीय देते हैं वह पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा है। शशि थरूर द्वारा किया गया यह ट्वीट तेजी से लोगों द्वारा शेयर किया जा रहा है।

    महत्वपूर्ण जानकारी

    • शुल्क वृद्धि ने भारत ईंधन पर सबसे अधिक करों वाला देश बन गया है।

    • खुदरा ईंधन मूल्य पर इटली 64 % करों के साथ दूसरे स्थान पर है।

    भारत ने हमेशा पेट्रोल और डीजल पर उच्च कर लगाया है। बता दें कि पिछले साल तक, सरकार ईंधन के खुदरा मूल्य पर 50% कर वसूल रही थी। वहीं इस साल कोरोना वायरस की महामारी व लॉक डाउन के चलते भारत की आर्थिक स्थिति बहुत ढीली पड़ गई है। माना जा रहा है कि भारत की आर्थिक स्थिति को पटरी पर लाने के लिए अधिक करों की मदद से आर्थिक राजस्व पुनः स्थापित करने के लिए यह कदम उठाया गया है।

    सर्वप्रथम दिल्ली सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर मूल्य वर्धित कर बढ़ाकर 30 प्रतिशत कर दिया है। अर्थात दिल्ली में खरीदा जाने वाला हर लीटर पेट्रोल जो कि वर्तमान में 71.26 रुपये पर बिकता है, उसमें 49.42 रुपये का कर शामिल है, जबकि डीजल के प्रत्येक लीटर के लिए 69.39 रुपये में 48.09 रुपये कर होता है। इसके बाद केंद्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद शुल्क में 10 रुपये और 13 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी करके पेट्रोल पर 32.98 रुपये और डीजल पर 31.83 रुपये प्रति लीटर कर लगाया।

    कर बढ़ोतरी से सरकार का फायदा

    कोविड-19 की महामारी व महीनों लगे लॉकडाउन से भारत को बहुत सी आर्थिक मार झेलनी पड़ी। जिससे कि भारत की आर्थिक स्थिति भी डामाडोल हो गई है। अप सरकार का लक्ष्य भारत की आर्थिक स्थिति का राजस्व पुनः स्थापित करने का है। जिसे करों व उत्पाद शुल्क बढ़ोतरी से इस वित्तीय वर्ष में अतिरिक्त 1.6 लाख करोड़ रुपये का राजस्व प्राप्त करने होगा।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Latest news

    Must Read

    You might also likeRELATED
    Recommended to you