More

    बजट 2021 सरकार ‘टैक्स’ वसूली से आम जनता पर कितना होगा असर?

    -

    नई दिल्ली

    केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा 2021-22 का बजट पेश कर दिया गया है। वित्त मंत्री ने बजट में “एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर एंड डेवलपमेंट सेस” लगाने की घोषणा की है। सरकार का मानना है, कि लगाए गए इस ‘सेस’ द्वारा साल में करीब 30,000 करोड़ रुपये मिलेंगे। जानें क्या है ‘एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर एंड डेवलपमेंट सेस’ और क्या होगा इसका आम जनता पर असर –

    एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्यर एंड डेवलपमेंट सेस

    एग्रीकल्चर इन्फ्रास्ट्रक्चर एंड डेवलपमेंट सेस (एआईडीसी) एक ऐसा कर है जो भारत सरकार कृषि उत्पादों के व्यावसायिक उत्पादन पर लगाती है। इस कर से सरकार को जो रुपए मिलते हैं। उसका उपयोग देश भर के कृषि में बुनियादी ढांचे के विकास के लिए किया जाता है।

    सोमवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा पेश किए गए 2021 बजट में ‘एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर एंड डेवलपमेंट सेस’ लगाने की घोषणा की गई है। यह नया सेस 2 फरवरी से लागू हो गया है। बता दें कि यह सेस लगाने से पेट्रोल और डीजल महंगे नहीं होंगे। सेस में पेट्रोल पर प्रति लीटर 2.5 रुपये और डीजल पर 4 रुपये प्रति लीटर के हिसाब से लगाया गया है। वित्त मंत्री ने एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर में सुधार और कृषि उत्पादों की प्रोसेसिंग को भी बेहतर करने की आवश्कता बताते हुए एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर एंड डेवलपमेंट सेस लगाने का एलान किया।

    आम जनता पर नहीं पड़ेगा अतिरिक्त असर

    वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट पेश करते वक्त बताया कि बेसिक एक्साइज ड्यूटी (बीईडी) और स्पेशल एडीशनल एक्साइज ड्यूटी एसएईडी में कटौती से लोगों पर टैक्स बढ़ाए जाने पर अतिरिक्त बोझ नहीं पड़ेगा। वित्त मंत्री द्वारा बजट में की गई ‘एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर एंड डेवलपमेंट सेस’ घोषणा के बाद केंद्रीय वित्त सचिव अजय भूषण पांडेय ने कहा कि सरकार द्वारा लगाए गए इस ‘सेस’ से साल में करीब 30,000 करोड़ रुपये मिलेंगे। वहीं साथ ही साथ राजस्व सचिव अजय भूषण पांडेय ने बजट को लेकर बताया कि करीब 14-15 वस्तुओं पर एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्यर डेवलपमेंट सेस लगाने का प्रावधान किया गया है। लेकिन आम जनता पर इस प्रावधान से कोई अतिरिक्त असर नहीं पड़ेगा।

    अखिलेश यादव का बजट पर बड़ा बयान

    केंद्र सरकार द्वारा सोमवार को 2021-22 का बजट पेश करते ही विपक्षी दल बजट को लेकर अपनी-अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता बजट की जमकर आलोचना कर रहे हैं। वहीं उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सरकार द्वारा पेश किए गए 2021-22 बजट पर निशाना साधते हुए ट्वीट कर कहा कि, “भाजपा सरकार स्वयं बता दे कि इस बजट में कृषि-किसान, गांव-ग्रामीण, आम आदमी, नौकरीपेशा, महिलाओं, युवाओं, कारोबारियों के लिए क्या अच्छा है? बड़े-बड़े अर्थशास्त्री भी बजट में माइक्रोस्कोप लगाकर भी किसी के लिए भी ‘अच्छे दिन’ नहीं ढूंढ पा रहे हैं। ये बजट नहीं मायूसी का दस्तावेज़ है” अखिलेश यादव ने यह ट्वीट कर सीधे केंद्र सरकार द्वारा पेश किए बजट पर सवाल खड़े किए हैं। और बजट को लेकर निराशा भी व्यक्त की है।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Advertisement

    Latest news

    Must Read

    Advertisement

    You might also likeRELATED
    Recommended to you