More

    Bird flu: गंभीर होता जा रहा है मामला, संकट में हैं पक्षी

    -

    आशिषा सिंह राजपूत, नई दिल्ली

    हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान और केरल इन चार राज्यों समेत कई राज्यों में बर्ड फ्लू के लक्षण पंछियों में देखे जा रहे हैं। वहीं हरियाणा में बीते 10 दिनों में चार लाख से अधिक मुर्गियों की बर्ड फ्लू से मौत हो गई है। केरल में भी बर्ड फ्लू के बढ़ते हुए मामले को देखते हुए संक्रमित पक्षियों को मारना शुरू कर दिया गया है। यह बेहद चिंतित कर देने वाली बात है। जिससे राज्य व केंद्र सरकार सख्ते में आ गई है।

    निरीक्षण के बाद 4 राज्य में हुई वर्ल्ड फ्लू की पुष्टि

    समाचार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद-नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हाई-सिक्योरिटी एनिमल डिसीज (ICAR-NIHSAD) द्वारा चार राज्य राजस्थान, मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश और केरल में नमूनों का परीक्षण किए जाने के बाद मंत्रालय को इन चार राज्यों में मामलों की जानकारी दी। एक आधिकारिक बयान से यह बात सामने आई है कि राजस्थान में, बारन, कोटा और झालावाड़ जिले में कौवों में बर्ड फ्लू पाया गया है।

    वहीं मध्य प्रदेश के मंदसौर, इंदौर और मालवा जिलों में भी कौवे में सी बर्ड फ्लू के लक्षण पाए जा रहे हैं। वहीं हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा में प्रवासी पक्षियों में वर्ल्ड फ्लू तेजी से फैल रहा है। तो केरल में कोट्टायम और अल्लापुझा जिलों में पोल्ट्री-बत्तख में बर्ड फ्लू की पुष्टि की गई है। तेजी से बढ़ते बर्ड फ्लू के मामले को देखते हुए मध्य प्रदेश और दक्षिण भारत में मुर्गे के व्यापार और प्रवेश में रोक लगा दी गई है।

    क्या है बर्ड फ्लू?

    बर्ड फ्लू या चिड़ियों का इन्प्लुएन्जा, एक विषाणुजनित रोग है। यह विषाणु मुर्गी एवं अन्य चिड़ियों में पाया जाता है। फ्लू का कारण एवियन इन्फ्लूएंजा( H5N1) होता है। इससे पक्षियों की मौत हो जाती है। यह वायरस आसानी से पक्षियों से अन्य जानवरों और इंसानों में आ सकता है। पंछियों का सेवन करने वाले जानवर और इंसानों में बर्ड फ्लू आसानी से संक्रमित हो जाता है। यह वायरस इतना खतरनाक पक्षियों के लिए है उतना ही अन्य जानवरों और इंसानों के लिए भी। H5N1 प्राकृतिक रूप से पक्षियों में होता है और यह आसानी से अन्य पक्षियों फैल जाता है। ये बीमारी संक्रमित पक्षी के मल, नाक के स्राव, मुंह के लार या आंखों से निकलने वाली पानी के संपर्क में आने से होता है।

    कंट्रोल रूम किया जा रहा है स्थापित

    पक्षियों को अपनी चपेट में ले रहे इस मामले को देखते हुए शासन और प्रशासन सचेत हो गया है। भारत सरकार के पशुपालन और डेयरी विभाग ने राज्य के अधिकारियों से मामले की पूरी जानकारी और दैनिक परिणाम जानने के लिए नई दिल्ली में कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है। जिससे पशु में बढ़ रहे फ्लू की सही और सटीक जानकारी प्राप्त की जा सके।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Advertisement

    Latest news

    Must Read

    Advertisement

    You might also likeRELATED
    Recommended to you