More

    बीजेपी के लिए बंगाल चुनाव में बड़े लक्ष्य के साथ बड़ी चुनौतियां

    -

    आशिषा सिंह राजपूत, नई दिल्ली

    पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव को लेकर बीजेपी ने कई बड़े लक्ष्य रखे हैं, बीजेपी ने पश्चिम बंगाल में चुनावी रणनीति को बनाते हुए राज्य को पांच चुनावी जोन में बांटा है और हर जोन के लिए एक संगठन महामंत्री को नियुक्त किया है।

    बीजेपी के लक्ष्य

    पश्चिम बंगाल 2021 विधानसभा चुनाव की तैयारी जोरों शोरों से चल रही है। केंद्रीय मंत्री व बीजेपी के शीर्ष नेता अमित शाह ने कुल 294 सीटों में से 200 सीटों पर बीजेपी की जीत का लक्ष्य रखा है। बीजेपी का पूरा लक्ष्य पश्चिम बंगाल में जीत कर सत्ता अपने नाम करने का है जिसके लिए नई-नई नीतियां व प्रदर्शन किए जा रहे हैं, जिससे ममता बनर्जी की सरकार को शिकस्त दी जा सके।

    बीजेपी लक्ष्य प्राप्ति की शुरुआत पश्चिम बंगाल को पांच चुनावी जोन में बांटकर किया है। और हर जोन पर मजबूत पकड़ व सफल परिणाम के लिए एक संगठन महामंत्री को नियुक्त कर पूरी जिम्मेदारी दी जा रही है। साथ ही साथ बीजेपी ने बहुत से केंद्रीय मंत्रियों को भी पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव में सक्रिय करते हुए काफी सचेत हो गई है। नहीं खुद केंद्रीय मंत्री अमित शाह पश्चिम बंगाल में रोड शो व प्रदर्शन कर रहे हैं।

    बीजेपी की चुनौतियां

    बात अगर पश्चिम बंगाल की की जाए तो उसमें ममता बनर्जी का नाम सबसे ज्यादा उभरकर सामने आएगा।10 साल से बंगाल की सत्ता पर ममता बनर्जी का शासन चलता हुआ आया है। जाहिर है बीजेपी का मुकाबला ममता बनर्जी से काफी कठिन होगा। सत्ताधारी ममता बनर्जी ने भी एड़ी चोटी का जोर विधानसभा चुनाव पर लगा दिया है। कहीं टीएमसी के कद्दावर नेताओं द्वारा बयानबाजी हो रही है तो, कहीं बीजेपी के नेताओं द्वारा प्रदर्शन। जाहिर है जिस तरह के बड़े लक्ष्य बीजेपी ने पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव के लिए रखे हैं। उतनी ही बड़ी एवं कड़ी चुनौतियों के लिए बीजेपी को तैयार रहना पड़ेगा।

    टीएमसी के बागी नेताओं को बीजेपी ने अपनाया

    विधानसभा चुनाव नजदीक आ रहा है। पक्ष विपक्ष दल अपनी-अपनी तैयारियों में जुटे हैं। एक तरफ बीजेपी और टीएमसी एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगा रही है वहीं दूसरी तरफ टीएमसी के कुछ वरिष्ठ नेताओं ने ममता बनर्जी व सरकार से कुछ मुद्दों पर अपनी असहमति प्रकट कर एवं अपनी नाराजगी जाहिर कर टीएमसी का दामन छोड़ बीजेपी का दामन थाम लिया है। वहीं बीजेपी इस बात का फायदा उठाते हुए लोगों तक यह संदेश देना चाहती है कि ममता बनर्जी व उनकी सरकार जब अपने ही नेताओं के लिए सचेत व जागरूक नहीं है तो वह पश्चिम बंगाल की जनता के लिए कितनी लाभदाई व गंभीर होगी।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Latest news

    Must Read

    You might also likeRELATED
    Recommended to you