भाजपा के लिए जीत का रस्ता कोंडली से निकलेगा

चुनावी डेस्क- राजनीति में कई बार मेहनत से ज्यादा भूमिका किस्मत कि होती है। इसलिए अक्सर नेता लोग नामांकन से लेकर पूरे चुनाव में क्षेष्ठ मूहर्त का ध्यान रखते है। अपनी कुडंली को ध्यान में रखकर अपनी चुनावी रणनीति बनाती है।

लिहाजा दिल्ली में विधानसभा चुनाव अपने पूरे चरम पर है। केजरीवाल अपने पांच साल के रिपोर्ट कार्ड और मुफ्त कि घोषणाओं के आसरे अपनी किस्मत आजमा रहे है।

दिल्ली चुनाव में कांग्रेस से कोई खास प्रदर्शन कि उम्मीद नहीं है। इस बार आप और भाजपा के बीच कांटे कि लड़ाई नजर आती है। जहां भाजपा मोदी सरकार कि उपलब्धियों के नाम पर दिल्ली में अपनी खोई किस्मत जगाना चाहते है।

बहरहाल कोंडली के जमीनी हालातों कि बात करें तो शेष दिल्ली कि तरह पानी के लिए मारामारी, शुद्ध और पीने योग्य पानी का अभाव, अस्त-व्यस्त पार्किंग जोन, बदबू मारते सीवरेज का कहर।

कोंडली के स्थानीय लोग कहते है। हमने बेहतरी के लिए आम आदमी पार्टी को वोट दिया। लेकिन पांच आप सरकार कि असंवेदनशील कार्यशैली ने हमें लाचार और बेबस बना दिया है। इसलिए इस बार हमने मन बना लिया है। अपने वोट से कोंडली सीट पर आप को कमजोर करें। यह समीकरण आप के भविष्य के लिहाज से नकारात्मक है। खैर, नतीजों वाला दिन बहुत अहमियत वाला है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here