राजस्थान में चुनावी कसमकश जोरों पर है, हर पार्टी अपनी अपनी जीत के लिए हर दांव आजमा रही है। लेकिन दांव खेलने के चक्कर में कांग्रेस का हर दांव उल्टा पडता नजर आ रहा है। कांग्रेस पार्टी पर यह राजस्थानी भाषा कि पंक्तियाँ फिट बैठती है कि “काणी रा ब्याह म कौतक ही कौतक” मतलब यही कि एक आँख से अँन्धी दुल्हन के विवाह में परेशानी पर परेशानी आती रहती है।

लिहाजा कांग्रेस कि लगातार बढती मुश्किलें बंद कमरे से चौहराऐ तक पँहुची गुट बाजी कि बात हो,टिकट बाँटने में देरी हो, पार्टी में भारी बगावत कि बात हो,कल्ला का भारत माता का नारा रुकवा कर सोनिया गाँधी का नारा लगवाने पर कांग्रेस कि किरकिरी हो। इसी कड़ी में राजस्थान में राजस्थान कांग्रेस के बीकानेर कि खाजूवाला सीट के प्रत्याशी गोविंदराम मेघवाल का हिन्दू भावनाओं को ठेस पँहुचाने वाला बयान सामने आया है। दरअसल इस चुनाव में यह कोई पहला मौका नही है,जब कांग्रेस के नेताओं कि जुबान फिसली हो।

इस चुनाव में गोविंद राम मेघवाल से पहले सीपी जोशी,बीडी कल्ला भी कांग्रेस कि मिट्टी पलीद कर चुके है।लिहाजा गोविंद राम मेघवाल ने अपने बयान में हिन्दू देवी देवताओं हनुमान जी,श्रीराम,कृष्ण, हिन्दू धर्म, का अपमान किया है। सियासी जानकारों का मानना है कि मेघवाल के इस बयान से कांग्रेस एससी,एसटी, ओबीसी सहित सारे हिन्दू वोट छिटक सकते है। मेघवाल के इस बयान के बाद समूची कांग्रेस बैंकफुट पर आ गई है।

वही दुसरी और बीजेपी का कहना है कि, कांग्रेस विकास के बजाय देश को बाँटने कि राजनीति कर रही है,और ऐसे में कांग्रेस कि हार तय है। खैर,राजनीति का स्तर अब दिनों-दिन घटता जा रहा है।यह चिंता का विषय है

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here