राजस्थान विधानसभा चुनाव में वांगड़ क्षेत्र का सरकार बनाने में बडी भूमिका होती है। बांसवाड़ा जिले की गढ़ी, कुशलगढ़, घाटोल, बांसवाड़ा, बागीदौरा सीट पर टिकट वितरण के बाद हर दिन बदलते जीत हार के समीकरणों के बाद अब ठीक वोंटिगं से पहले किसके पक्ष में है जीत के समीकरण।

गढ़ी बांसवाड़ा की अधिकतर सीटें आदिवासी बहुल है, गढ़ी सीट पर कांग्रेस की प्रत्याशी कांता का मुकाबला बीजेपी के प्रत्याशी कैलाश मीना से है, जबकि कांग्रेस की आपसी फूट और बीटीपी के मैदान में आने से कांग्रेस का बेस वोट छिटक गया है, ऐसे में इस सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी जीत की दौड़ में पुरी तरह बाहर दिख रहे है।

वही घाटोल सीट पर भाजपा ने युवा चेहरे को उतारकर आधी जंग तो ऐसे ही जीत ली है, कांग्रेस के प्रत्याशी नानालाल से आदिवासी जन जातियां खासी असन्तुष्ट है, तो वही बीजेपी के हरेन्द्र निनामा की वोटरो पर अच्छी कमांड है, ऐसे में घाटोल सीट पर भी बीजेपी लीड बनाती दिख रही है।

कुशलगढ़ बांसवाड़ा की सीटे सीधे सीधे बीजेपी के पाले में जाती हुई दिख रही है, क्योंकि कांग्रेस ने यहाँ पर अपना कोई प्रत्याशी उतारा ही नहीं है।
बागीदौरा सीट पर जहां कांग्रेस के प्रत्याशी के तौर पर महेंद्र मालवीय है, तो बीजेपी के खेमराज ताल ठोक रहे है, लेकिन यहां मालवीय की हालत खासी पतली है, लिहाजा एसटी समुदाय रघुवीर मीना की वजह से नाराज है, और गढ़ी और बांसवाड़ा सीट पर अपने समर्थकों को टिकट नहीं दिलवा पाने पर वहां अपने विरोधी खैमे को हराने में जूटे मालवीय का यह दावं उनको बागीदौरा सीट पर मंहगा पड़ सकता है।

बांसवाड़ा विधानसभा सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी अर्जुन बामनिया का मालवीय गुट द्बारा खासे विरोध के चलते कांग्रेस यहां खासी कमजोर नज़र आ रही है, वही बीजेपी के हरूक मईड़ा खासे लोकप्रिय है।

ऐसे में बांसवाड़ा में बीजेपी कांग्रेस के मुकाबले संगठित और मजबूत नज़र आ रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here